Neet Ki Taiyari Kaise Kare: घर बैठे पहले ही प्रयास में पास करें NEET

नमस्ते दोस्तों! आजकल हर विज्ञान विषय में पढ़ रहे विद्यार्थी का सपना डॉक्टर या इंजीनियर बनने का होता है। लेकिन सभी विद्यार्थियों की आर्थिक स्थिति इतनी मजबूत नहीं होती कि वे किसी अच्छे कोचिंग संस्थान से तैयारी कर सकें। अक्सर विद्यार्थी सेल्फ स्टडी के माध्यम से ही NEET परीक्षा की तैयारी करते हैं। इस लेख के माध्यम से हम आपको घर बैठे सेल्फ स्टडी से NEET की तैयारी कैसे करें, इसके बारे में बताने जा रहे हैं।

Neet Ki Taiyari Kaise Kare
Neet Ki Taiyari Kaise Kare

NEET EXAM

NEET का मतलब है ’National Eligibility Cum Entrance Test’। इस परीक्षा को वे विद्यार्थी देने के लिए योग्य होते हैं जो डॉक्टर बनने की इच्छा रखते हैं। NEET परीक्षा को उन्हें पास करना होता है जो विद्यालयी शिक्षा पूरी कर चुके हैं। इसमें भौतिकी, जीव विज्ञान और रसायन विज्ञान से संबंधित प्रश्न होते हैं। अगर आप अपने घर पर ही NEET की तैयारी करना चाहते हैं, तो नीचे दिए गए तरीकों का अनुसरण करें।

NEET Exam Eligibility Criteria

NEET परीक्षा देने के लिए आपके पास कक्षा-12 में विज्ञान संकाय (Science Faculty) में भौतिक, जीव तथा रसायन विज्ञान विषय होना चाहिए, साथ ही कक्षा-12 में कम से कम 50% अंक प्राप्त होना चाहिए। इसके बाद ही आप NEET परीक्षा के लिए आवेदन कर सकते हैं।

NEET Syllabus PDF Download

NEET परीक्षा की तैयारी करने के लिए सबसे पहले आपको इसके सिलेबस के बारे में संपूर्ण जानकारी होनी चाहिए। NEET परीक्षा का एग्जाम पैटर्न और सिलेबस इसकी संबंधित आधिकारिक वेबसाइट पर अपलोड कर दिया जाता है। NEET के परीक्षा पेपर में मुख्य रूप से फिजिक्स, केमिस्ट्री, और बायोलॉजी से संबंधित प्रश्न पूछे जाते हैं। इसमें हर विषय से कुल 45 प्रश्न पूछे जाते हैं और प्रत्येक प्रश्न 4 नंबर का होता है। इस तरह प्रत्येक विषय से कुल 180 नंबर के प्रश्न पूछे जाते हैं।

<<<Syllabus PDF>>>

STUDY MATERIAL

सिलेबस को देखने के बाद उसके आधार पर Study Material (विषय सामग्री) का चयन करें। नीट परीक्षा में अधिकतर NCERT की किताबों से प्रश्न पूछे जाते हैं। आप कक्षा 9 से लेकर कक्षा 12 तक की विज्ञान विषय की किताबें खरीदें। इसके साथ ही, नीट परीक्षा के लिए मार्केट से एक गाइड बुक और मॉडल टेस्ट पेपर भी खरीदें। गाइड बुक और टेस्ट पेपर का चयन ध्यानपूर्वक करें। बुक स्टोर पर गाइडबुक को कुछ मिनट पढ़कर देखें, और अपनी पूर्ण सहमति के बाद ही गाइडबुक खरीदें।

टाइम टेबल

स्टडी मटेरियल लेने के बाद, अब परीक्षा की तिथि के अनुसार अपना स्टडी टाइम टेबल बनाएं। दिन में आप जितने घंटे पढ़ाई करना चाहते हैं, उसके अनुसार प्रत्येक विषय के लिए समय निर्धारित करें। रिवीजन के लिए भी समय निश्चित करें। किसी अन्य के बताए अनुसार टाइम टेबल न बनाएं, बल्कि अपने विवेक और पढ़ाई करने की क्षमता के अनुसार ही टाइम सेट करें।

ध्यान रखें, आप मनुष्यों की श्रेणी में आते हैं, मशीनों की नहीं। इसलिए आपका टाइम टेबल ऐसा होना चाहिए जिसे आप बिना किसी परेशानी के निभा सकें। घरवालों या किसी और को दिखाने के लिए जानबूझकर बड़ा या अधिक घंटों का टाइम टेबल न बनाएं। हर 2 घंटे बाद 10 मिनट का रेस्ट टाइम ज़रूर रखें। अगर आप कंप्यूटर या मोबाइल से पढ़ाई करते हैं, तो प्रत्येक 1 घंटे बाद 2 से 3 मिनट का ध्यान स्क्रीन से हटाने का समय अवश्य निकालें। इससे आपकी आँखों पर ज़ोर नहीं पड़ेगा और आप ज़्यादा समय तक अध्ययन कर सकेंगे।

विषय वस्तु का चुनाव

नीट परीक्षा के लिए NCERT की किताबें किसी रामबाण से कम नहीं हैं। इस परीक्षा में लगभग 70% प्रश्न NCERT की किताबों से पूछे जाते हैं। इसलिए सेल्फ स्टडी के लिए आप सबसे पहले कक्षा 9 से 12 की विज्ञान विषय की किताबें पढ़ें। इससे आपके बेसिक क्लियर होंगे तथा जैसे-जैसे आप तैयारी में आगे बढ़ेंगे आपको कम से कम समस्याओं का सामना करना पड़ेगा।

आपने NEET की तैयारी करने वाले बहुत से छात्रों को यह कहते सुना होगा कि मुझे तो कुछ भी समझ में नहीं आ रहा। आ भी रहा हैं तो याद नहीं हो रहा। इस समस्या का कारण यह हैं कि उन्होंने परीक्षा की तैयारी के लिये बेसिक नहीं पढ़े। इसलिए यह अतिआवश्यक हैं कि आप जीरो लेवल से तैयारी शुरू करें। आप NCERT पढ़ते समय उसके नोट्स ज़रूर बनायें। यह नोट्स रिवीजन करने के लिए बेहद कारगर हैं।

साप्ताहिक टारगेट निश्चित करें

आप अपने लिए हर सप्ताह का एक टारगेट निश्चित करें। इसके बाद रविवार के दिन कुछ नया न पढ़ें, आपने इस सप्ताह के लिए जो टारगेट निश्चित किया था उसका विश्लेषण करें कि आपने वह पूरा किया हैं या नहीं। साथ ही जितना आपने पिछले 6 दिनों में पढ़ा हैं, उसका रिवीजन करें। इसके अलावा सप्ताह में एक या दो मॉडल पेपर हल करें।

मॉडल टेस्ट पेपर हल करना ज़रूरी

NEET हो या कोई भी प्रायोगिक परीक्षा, मॉडल पेपर हल करना सबसे ज़रूरी है। मॉडल पेपर से आपको परीक्षा पेपर के पैटर्न को समझने में सहायता मिलती है। मॉडल पेपर हल करते समय बहुत सारे प्रश्न आपको नहीं आएँगे, शुरू में तो ऐसा भी होगा कि आपको बस कुछ ही प्रश्न आयेंगे। घबराइए नहीं, यह स्थिति हर विद्यार्थी की होती है। ऐसा इसलिए होगा क्योंकि आपने अभी तैयारी शुरू ही की है, आपका सिलेबस अभी पूर्ण नहीं हुआ है। इसलिए यह सामान्य बात है कि आपको प्रश्नों का उत्तर न आए।

मॉडल पेपर हल करने का फ़ायदा यह रहेगा कि आपको परीक्षा में आने वाले प्रश्नों का तरीका समझ आएगा। इसके बाद जब आप किताबें पढ़ेंगे तो आप परीक्षा में आने योग्य तथ्यों का चुनाव आसानी से कर सकेंगे। इससे आपको नोट्स बनाने में भी आसानी होगी।

गाइडेंस ज़रूर रखें

NEET परीक्षा में हर वर्ष लाखों विद्यार्थी बैठते हैं, लेकिन इनमें से कुछ ही परीक्षा पास कर पाते हैं। अगर आपके पास कोई ऐसा व्यक्ति हैं जिसने नीट परीक्षा पास कर रखी हैं, तो आप उससे सहायता ज़रूर ले। उनसे पूछें कि परीक्षा में किस तरह के प्रश्न आते हैं, परीक्षा पेपर कैसे हल करें आदि। इसके अलावा, आप नीट की तैयारी करवाने वाले किसी अध्यापक से भी सहायता ले सकते हैं।

Best Tips for Neet Preparation

  • NCERT की किताबें पढ़ें।
  • NCERT किताबों के शोर्ट नोट्स तैयार करें।
  • हर सप्ताह के लिए एक लक्ष्य तय करें और सप्ताह में एक दिन उसे आंकलन करें।
  • मॉडल पेपर हल करें।
  • एक्सपर्ट सलाह लें।
  • सिलेबस के अनुसार ही स्टडी करें।

Leave a Comment