भारतीय आयोग ने 29 सितंबर 2022 को पावर द्वारा डीबी पावर के अधिग्रहण को हरी झंडी दे दी है

सबसे पहले यह घोषणा हुई थी कि अदानी पावर 21 अक्टूबर 2022 तक इस सौदे को पूरा कर लेगा,

अमेरिकी रिसर्च फ़ॉर्म हिडनबर्ज के खुलासे के बाद अदानी ग्रुप की

कंपनियां को तगड़ा झटका लगा है वहीं अदानी ग्रुप के चेयरमैन गौतम अडानी की नेटवर्क में भी भारी गिरावट आ गई है

इस बीच अदानी ग्रुप में एक बड़ा फैसला लिया है 

निवेशकों में विश्वास जगाने को जोड़कर देखा जा रहा है

दरअसल पिछले साल अदानी पावर ने एक बड़ी डील की थी

जिसे अब कंपनी पीछे हट गई है बता दे अदानी पावर भारत में एक कोयला संयंत्र परियोजना को

 खरीदने की योजना से पीछे हट गई है करीब ₹7000 करोड़ का यह यह डील हुआ था